Important Haryana History in Hindi for HSSC Exams

Haryana History in Hindi: Most Important Haryana History GK in Hindi

haryana history hindi

Haryana History in Hindi: जैसा की आप जानते हैं अभी हरयाणा पंजाब का एक हिसा नही है, परन्तु ब्रिटिश काल में हरयाणा पंजाब का एक अभिन्न हिस्सा था और  इसका अपना एक अलग हि महत्व था. सिन्धु घटी सभ्यता के कुछ क्षेत्र अभी भी हरयाणा राज्य में पाए जाते हैं जिन में से प्रमुख क्षेत्र हैं बानावाली और राखीगढ़ी.

प्राचीन हिन्दू ग्रंथो के अनुसार कुरुक्षेत्र की सीमाएं हि हरयाणा की सीमाएं हैं. महाभारत में बताये गये कुछ स्थान आज के समय में आधुनिक नामों में परिवर्तित हो गये हैं.

कोरोवों और पांड्वो के बीच का युद्ध कुरुक्षेत्र नामक स्थान पर हुआ था. कृष्ण भगवान ने यंही पे अपना गीता का उपदेश दिया था.

इसके बाद हम बात करेंगे आधुनिक हरयाणा के इतिहास की:

हुण के बाद हर्षवर्धन जो की उस वक्त का बहुत हि महान राजा था उसने कुरुक्षेत्र के पास हि थानेसर में अपनी राजधानी बसाई थी. उसके काफी समय बाद राजपूतों के शासक पृथ्वीराज चौहान ने हांसी और तरवाडी में अपना किला स्थापित किया.

दुसरे तराइन के युद्ध के बाद म्हुमद गोरी ने यांह अपना शासन स्थापित किया.

ब्रिटिश राज से मुक्त करवाने के लिए हरयाणा वासियौं ने बड चढ़ क्र भाग लिया.

Haryana History GK Questions in Hindi

ब्रिटिशों ने कब हरयाणा को पूरी तरह अपने अधीन कर लिया था?

  • 1810 में 

पानीपट की तीसरी लड़ाई कब हुयि थी?

  • 1761 में 

हरयाणा पर मराठाओं का अधिकार कब हुआ ?

  • 1756-1757 में 

पानीपत का दूसरा युद्ध कब हुआ था?

  • 1556 में 

भारत पर तैमुर का आक्रमण कब हुआ?

  • 1398 में 

तराइन की पहली लड़ाई किस किस के मध्य हुई?

  • पृथ्वी राज चौहान और मुहमद गोरी.

हर्षवर्धन ने अपनी राजधानी कहाँ स्थापित की थी?

  • थानेसर में.

कोरोवों और पांडवों के मध्य युद्ध कहाँ हुआ था?

  • कुरुक्षेत्र में.

Read Haryana GK PDF in Hindi Download here:- Haryana GK PDF in Hindi Download

So, above are the most important Haryana history in Hindi and General Knowledge questions and answers in Hindi of Haryana history.

If you like this Haryana History in Hindi do share with your friends.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.